निश्चल सा कच्चा सा प्रेम – मंडली
मंडली

निश्चल सा कच्चा सा प्रेम

शेयर करें

दिन के एक बजे दिल्ली की उमस वाली गर्मी में मैं मेट्रो स्टेशन पर खड़ा पगला रहा हूँ। क्लाइंट को फोन किया तो वह बोला कि आप नीचे उतर कर फ़ूड कोर्ट में बैठो, मैं बस अभी आता हूँ।

नेहर प्लेस मेट्रो स्टेशन से नीचे उतरते हुए मुझे नयी वाली दिल्ली और GEN-X के दर्शन हो रहे हैं। यूँ तो हर साल दिल्ली आता हूँ पर कभी ऐसे ‘happening’ प्लेस पर जाने का ना तो मन करता है और न टाइम होता है। आज मजबूरी में ही सही पर नई वाली दिल्ली दिख रही है।

भरे हुए फ़ूड कोर्ट में एक खाली टेबल देखकर बैठ जाता हूँ। खाने का मन नहीं है, यहाँ-वहाँ नज़रे घुमाने में लगा हुआ हूँ। एक मैनेजर अपनी सेल्स टीम को बिठा कर ऐसा ज्ञान बाँट रहा है, जिस ज्ञान की किसी को शायद ही ज़रूरत हो। मेनेजर बिल गेट्स की कहानी सुनाने में लगा है जो वह शायद कल अपने बॉस से सुनकर आया है और आज ही उसे उल्टी कर देने का आर्डर मिला है।

सामने एक सीट पर एक अधेड़ शादीशुदा जोड़ा छोले-भठूरे खा रहा है। पार्टनर से ज्यादा उन दोनों का इंटरेस्ट छोले में लग रहा है। बीच बीच में उलटे हाथ से पतिदेव अपने सेल फोन को चेक किए जा रहे हैं जो उनकी मैडम को ज़रा भी नहीं भा रहा। जब जब वह फ़ोन टटोलते है, अपने हर कौर के साथ देवी जी कुछ बड़बड़ाती जाती हैं।

बायीं और एक कोर्टशिप वाला जोड़ा बैठा है। लड़के ने शायद कोई गलती की है। वह बस नए नए तरीके से सॉरी कहे जा रहा है। जिद्दी लड़की मानने का नाम नहीं ले रही। मंगाई हुई कुल्फी लड़की के असली-नकली आँसुओं के साथ बहे जा रही है। लड़के का अब घुटनों पर बैठना ही शेष है। इधर उधर देख वह घुटने पर हाथ लगा कर माफी माँग रहा है। लड़की की शक्ल से लग रहा है कि उसे 🔔 फर्क नहीं पड़ रहा।

मोबाइल फिर चेक किया तो क्लाइंट का लास्ट सीन स्टेटस करीब १५ मिनट पहले का दिखा। गहरी सांस लेकर दाएँ-बाएँ फिर देखता हूँ। तभी अपनी बायीं तरफ दुनिया का सबसे सुन्दर जोड़ा बैठा दिखाई देता है …😍😍😍

लड़का करीब १७-१८ साल का होगा पतला-मर्गिल्ला सा, मसें अभी पूरी भीगी नहीं हैं। बाल लम्बे से कान के पीछे से जेल लगे चिपके हुए, मुहाँसे वाले गाल थोड़े पिचके हुए हैं पर आँखों से दुनिया को जीत लेने की चमक बाहर निकल रही है। लड़की उसी की हमउम्र, बाल कानों तक कटे हुए, छोटे-छोटे ढेर सारे मुहांसे, चेहरे पर तैलीय त्वचा होने के पूरे पूरे सबूत, जीन्स पहने हुए और एक टॉप जो स्लीवेलेस है। दोनों के मोबाइल लावारिस से टेबल पर आस-पास पड़े हुए हैं। लड़की ने लड़के का हाथ थामा हुआ है। हर ५ सेकंड बाद बात करते करते लड़का लड़की के कान छू रहा है। फिर गालों तक उसकी उंगलियाँ रेंगती हैं। लड़की कुछ देर बाद लड़के के माथे पर आये हुए बालों को धीरे से पीछे कर देती है और लड़का मुस्कुरा देता है।

टेबल पर खाने का कोई सामान नहीं है। मैंने अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया है। अब क्लाइंट से ज्यादा मेरी दिलचस्पी इस जोड़े में है जो अपने पहले प्रेम में नया नया ही पड़ा जान पड़ता है। मैं प्रार्थना कर रहा हूँ कि ये हमेशा यूँ ही प्रेम में रहें।

लड़की उठ कर किसी काउंटर से कुछ लेने गयी है। लड़के ने यहाँ-वहाँ देखते हुए अपने बैग से एक पैकेट निकाला है, लाल रंग में लिपटा हुआ। लड़का मुस्कुरा रहा है, मैं भी। मेरा कयास है कि आज लड़की का जन्मदिन है शायद।

लड़की एक पेप्सी लाकर बैठ गयी है और लाल पैकेट की तरफ देख कर लड़के से कुछ पूछ रही है। लड़का शर्मा रहा है। लड़की को शायद अच्छा नहीं लगा है, लड़के का गिफ्ट लाना। लड़का गिफ्ट खुलवाने की जिद कर रहा है। लड़की ने अब गिफ्ट खोली है और मुस्कुरा रही है। मुझे नहीं दिख रहा है कि क्या गिफ्ट है। लड़की ने इधर उधर देखा और फिर जल्दी से लड़के गाल पर होंठ छुआ दिए है और दूर हो गयी है। लड़के की शक्ल ऐसे हुई कि जैसे उसने कोई किला जीत लिया है।

मेरे चेहरे पर से मुस्कुराहट रोके नहीं रुक रही है, करीब बीस साल पहले चला गया हूँ …

अब लड़की ने लड़के से कुछ खाने को मंगवाया है और लड़का टेबल से उठ कर चला गया है।

यहाँ मेरा दिल अब इन दोनो में अटक सा गया है …

अब लड़की ने अपने पर्स से गुलाबी रंग का एक पैकेट निकाल लिया है। मैं समझ गया हूँ कि जन्मदिन लड़की का नहीं है बल्कि शायद कोई ख़ास दिन है जो वे अभी मनाएंगे, हर महीने मनायेंगे और फिर हर साल और फिर … पता नहीं …

मुझ से रहा नहीं जा रहा है और मैंने एक बदतमीज़ी करने का फैसला कर लिया है। मैं उठ कर जा रहा हूँ उनके टेबल के पीछे की तरफ … टेबल पर पहला गिफ्ट एक सादा फोटो फ्रेम है। उसमे दोनो की एक सेल्फी है जिसमें लड़की जीभ निकाले हुए हैं और लड़का थोड़ी नाक फुला कर माथे पर शिकन डाले हुए सिल्वर रंग वाले चश्मे में कैंडिड पोज़ में है जो कैंडिड कम और प्लानडिड ज़्यादा लग रहा है।

नीचे लिखा हुआ है – I love you Sunita 😍😍😍

“क्या लायी हो तुम बेकार में”

“अरे देखो तो”

“पैसे क्यूँ खर्च करती हो इतना”

लड़का अचानक से बड़ा बन गया हैं पर Sunita हँसे जा रही है।

लड़के ने चेहरे पर झूठा गुस्सा लिए पैकेट खोला है …

पैकेट के अंदर फिर से एक सादा फोटो फ्रेम निकला है। उसमे दोनो की एक सेल्फी है जिसमे लड़की जीभ निकाले हुए हैं और लड़का थोड़ी नाक फुला कर माथे पर शिकन डाले हुए सिल्वर रंग वाले चश्मे में कैंडिड पोज़ में है जो कैंडिड कम और प्लानडिड ज़्यादा लग रहा है।

नीचे लिखा हुआ है – I love you Raju 😍😍😍

Raju और Sunita अब दोनो हँस रहे हैं।

Sunita ने फिर हँसते हँसते Raju के बाल छुए है और Raju ने Sunita के गालों पर फिर से चुटकी भरी है। सुनीता ने फिर से राजू के बालों को सहलाया है.. उनकी दुनिया बस गई है … मेरे गुज़बूम्पस आ चुके हैं।

अपनी तमाम प्रेमिकाओं को दिए गए सारे तोहफे आज मुझे कबाड़ का डिब्बा लग रहे हैं। ये जो मुस्कुराहट है, ये साला कोई मास्टरकार्ड नहीं दे सकता… वो जो पूछते हैं कि सच्चा प्यार क्या होता है … मैंने देखा है उन दोनों की आँखों में। वो जी रहे है अपनी जिंदगी… वो है प्रेम, निश्चल सा .. कच्चा सा …वो जो हम ढूँढते रहते हैं ज़िन्दगी भर …

लेखक – मनीष श्रीवास्तव (@shrimaan)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *